Category: GK in Hindi

http://indianexpresss.in

Created with Sketch.

प्राचीन भारतीय इतिहास : 22 – शुंग और कण्व

प्राचीन भारतीय इतिहास : 22 – शुंग और कण्व अशोक की मृत्यु के बाद ही मौर्य साम्राज्य का पतन आरम्भ हुआ, उसके बाद के शासक अधिक कुशल नहीं था। और धीरे-धीरे मौर्य साम्राज्य की शक्ति क्षीण होती गयी। अशोक के बाद कुणाल शासक बना, जिसे दिव्यावदान ने धर्मविवर्धन कहा गया है। वृहद्रथ मौर्य वंश का…
Read more

प्राचीन भारतीय इतिहास : 20 – मौर्यकाल में अर्थव्यवस्था, समाज तथा संस्कृति

प्राचीन भारतीय इतिहास : 20 – मौर्यकाल में अर्थव्यवस्था, समाज तथा संस्कृति आर्थिक स्थिति मौर्यकाल की अर्थव्यवस्था कृषि, पशुपालन और इससे सम्बंधित गतिविधियों पर आधारित थी। इस दौरान व्यापार भी किया जाता था। भूमि पर राजा का अधिकार होता था, इस प्रकार की भूमि को सीता कहा जाता था। इस भूमि पर कृषि कार्य करने…
Read more

प्राचीन भारतीय इतिहास : 19 – मौर्य साम्राज्य – चन्द्रगुप्त और बिन्दुसार

प्राचीन भारतीय इतिहास : 19 – मौर्य साम्राज्य – चन्द्रगुप्त और बिन्दुसार चन्द्रगुप्त मौर्य (322-298 ईसा पूर्व) चन्द्रगुप्त मौर्य भारतीय इतिहास का महत्वपूर्ण शासक था। चन्द्रगुप्त मौर्य के कार्यकाल से पहले सिकंदर ने भारत पर आक्रमण करके कई क्षेत्रों को अपने अधीन किया था। सिकंदर ने अपने जीते हुए क्षेत्रों में अपने प्रतिनिधियों को रखा…
Read more

प्राचीन भारतीय इतिहास : 18 – मौर्य साम्राज्य- अशोक

प्राचीन भारतीय इतिहास : 18 – मौर्य साम्राज्य- अशोक अशोक भारतीय इतिहास के सबसे महत्वपूर्ण शासकों में से एक है। अशोक ने भारतीय महाद्वीप के सबसे बड़े राज्य का गठन किया था। विभिन्न स्थानों से प्राप्त अभिलेखों में उसे देवानामपियदस्सी कहकर संबोधित किया गया है। भब्रू अभिलेख में उसे प्रियदर्शी, जबकि मास्की में बुद्धशाक्य कहा…
Read more

प्राचीन भारतीय इतिहास : 17 – महाजनपद

प्राचीन भारतीय इतिहास : 17 – महाजनपद प्राचीन भारत में अस्तित्व में रही विशाल राज्यों को महाजनपद कहा जाता है। इनका उदय उत्तर वैदिक काल में हुआ। जैन तथा बौद्ध ग्रंथों से इनकी जानकारी मिलती है। इस दौरान विशाल संगठित राज्यों का उदय हुआ। इस काल में बौद्ध और जैन धर्मों की स्थापना हुई। इन…
Read more

प्राचीन भारतीय इतिहास : 16 – भारत पर सिकंदर का आक्रमण

प्राचीन भारतीय इतिहास : 16 – भारत पर सिकंदर का आक्रमण भारत पर सबसे पहले ईरानी शासकों ने आक्रमण आरम्भ किये। भारत पर प्रथम विदेशी आक्रमण ईरान के हखमनी वंश के राजाओं ने किया था। इस वंश के संस्थापक सायरस ने भारत पर आक्रमण का असफल प्रयास किया था। ईरान के अकेमेनियन शासक डेरिअस प्रथम…
Read more

प्राचीन भारतीय इतिहास : 15 – मगध साम्राज्य

प्राचीन भारतीय इतिहास : 15 – मगध साम्राज्य मगध के उत्थान के कारण मगध प्राचीन भारत के 16 महाजनपदों में से एक था। यह आधुनिक बिहार राज्य के पटना और गया जिले में फैला हुआ था। महाजनपदों में मगध, कोसल, वत्स एवं अवन्ती सबसे अधिक शक्तिशाली राज्य थे। धीरे-धीर मगध ने अन्य तीन महाजनपदों को…
Read more

प्राचीन भारतीय इतिहास : 14 – बौद्ध साहित्य

प्राचीन भारतीय इतिहास : 14 – बौद्ध साहित्य हीनयान सम्प्रदाय साहित्य बौद्ध धर्म से सम्बंधित ग्रन्थ व पुस्तकें प्राचीन काल से लिखी जानी प्रारम्भ हुई थी। छठवीं शताब्दी में बौद्ध धर्म के उदय के पश्चात् ही बौद्ध धर्म व दर्शन पर ग्रंथों की रचना की जाने लगी। यह ग्रन्थ अथवा धार्मिक पुस्तकें भारत के प्राचीन…
Read more

प्राचीन भारतीय इतिहास : 13 – बौद्ध धर्म का उदय

प्राचीन भारतीय इतिहास : 13 – बौद्ध धर्म का उदय बौद्ध धर्म की स्थापना छठवीं शताब्दी में गौतम बुद्ध द्वारा की गयी थी। बुद्ध का जन्म 563 ईसा पूर्व में नेपाल के लुम्बिनी में हुआ था। उनकी मृत्यु 483 ईसा पूर्व में भारत में उत्तर प्रदेश के कुशीनगर में हुई थी। आरम्भ में बौद्ध धर्म…
Read more

प्राचीन भारतीय इतिहास : 12 – जैन साहित्य

प्राचीन भारतीय इतिहास : 12 – जैन साहित्य जैन साहित्य अत्यंत विशाल है, यह अधिकतर अपभ्रंश, प्राकृत और संस्कृत भाषा में लिखा गया है। महावीर स्वामी की गतिविधियों का प्रमुख केंद्र मगध रहा, इसलिए उन्होंने उपदेश भी लोक भाषा आर्धमागधी में दिए। महावीर स्वामी के उपदेश जैन आगमों में सुरक्षित हैं। जैन धर्म के श्वेताम्बर…
Read more

error: Content is protected !!